Home > मुख्य ख़बरें > Ind-Pak: भारत के आगे पस्त हुआ चीन तो पाक की हालत हुई खराब, अमेरिका से लगाई गुहार

Ind-Pak: भारत के आगे पस्त हुआ चीन तो पाक की हालत हुई खराब, अमेरिका से लगाई गुहार

नई दिल्ली। भारत और चीन (China) के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा (Line of Actual Control) पर जिस तरीके से पिछले कुछ महीनों में तनाव बना रहा, उस माहौल में भारतीय सेना ने गजब का साहस दिखाया। ऐसे में अब आखिरकार भारत और चीन के बीच हुई बैठकों के दौर में फैसला हुआ कि, दोनों देशों की सेनाएं वापस पीछे हटेगी। चीनी सेना का पीछे हटना, अपने आप में जाहिर करता है कि, भारन चीन के अड़ियल रवैये के आगे हार नहीं मानी और चीन को हर मोर्चे पर सख्त जवाब देता रहा। भारत की इस प्रतिक्रिया को देखते हुए अब पड़ोसी देश पाकिस्तान के भी पसीने छूट रहे हैं। बता दें कि पाकिस्तान को अब आभास हो गया है कि उसके दोस्त चीन को भी भारत के हौसलों के आगे झुकना पड़ा है, ऐसे में अब वो भी भारत से दोस्ती के बहाने खोज रहा है।

Bharti News एक ऑनलाइन News चैनल है, जो आपको ताज़ा खबरों से अपडेट रखता है. मनोरंजक और रोचक खबरों के लिए Subscribe करें Bharti News का यूट्यूब चैनल.

Also watch - खुलासा : कॉन्ग्रेस और भारत में दंगे करने वाली ताकतों के कनेक्शन का पर्दाफ़ाश

नोट : सेकुलरिज्म के चक्कर में टीवी मीडिया आपसे कई महत्वपूर्ण ख़बरें छिपा लेता है, फेसबुक और ट्विटर भी अब वामपंथी ताकतों के गुलाम बनकर राष्ट्रवादी ख़बरें आप तक नहीं पहुंचने दे रहे. ऐसे में यदि आप सच्ची व् निष्पक्ष ख़बरें पढ़ना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करके Bharti News App अपने फ़ोन में इनस्टॉल करें.

बता दें कि चीन के पीछे हटने से पाकिस्तान (Pakistan) को भी घबराहट होने लगी है। ऐसे में पाक ने अब अमेरिका (America) से गुहार लगाई है कि वह भारत के साथ उसके संबंधों को सामान्य करवाने में अहम भूमिका निभाए। पाकिस्तान के राजदूत असद मजीद खान (Asad Majeed Khan) ने अमेरिका में कहा कि हमारा देश चाहता है कि भारत उसके साथ शांति बहाली के लिए बातचीत करे, लेकिन इसके लिए अमेरिका को मदद करनी होगी।

असद ने एक थिंक टैंक (Think Tank) के कार्यक्रम में बोलते हुए ने कहा कि हम शांतिपूर्ण पड़ोस के लिए प्रतिबद्ध हैं, लेकिन इस तरह का माहौल बनाने की जिम्मेदारी भारत (India) को भी उठानी होगी। बता दें कि पिछले कुछ वक्त में ही पाकिस्तान की तरफ से बार-बार भारत से बातचीत की इच्छा जाहिर की गई है। ऐसा मालूम पड़ता है कि पाकिस्तान भारत से हालात सुधारने के लिए बेताब है।

प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) और विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (Shah Mahmood Qureshi) खुले तौर पर बातचीत की अपील कर चुके हैं। हालांकि, भारत की तरफ से साफ कर दिया गया है कि आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं हो सकतीं। पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट की मानें तो वॉशिंगटन के स्टिमसन सेंटर में भाषण देते हुए मजीद ने कहा, ‘हम चाहते हैं कि भारत और पाकिस्तान के बीच शांति बहाली के लिए अमेरिका बातचीत शुरू कराए। इससे एशिया में हालात शांति की तरफ बढ़ेंगे। तनाव कम होगा।

उन्होंने कहा कि, बातचीत के लिए वातावरण तैयार करने की जिम्मेदारी भारत सरकार की भी है।’ फिलहाल मजीद के इस बयान पर अब तक भारत सरकार ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। अपने भाषण में मजीद ने अफगानिस्तान का भी जिक्र किया। उन्होंने बाइडेन प्रशासन को सलाह देते हुए कहा कि अफगानिस्तान में शांति बहाली के लिए यह जरूरी है कि यूएस को तालिबान से भी बातचीत करनी चाहिए। हम अपनी तरफ से वहां शांति के लिए पूरी कोशिश कर रहे हैं।

हमें आप जैसे राष्ट्रवादी लोगों के सहयोग की जरुरत है, जो "राष्ट्र प्रथम" पत्रकारिता में अपना सहयोग देना चाहते हों. देश या विदेश, कहीं से भी सहायता राशि देने के लिए नीचे दिए बटन पर क्लिक करें.

App download

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुडी सभी ख़बरें सीधे अपने मोबाईल पर पाने के लिए Bharti News App डाउनलोड करें.

YouTube चैनल सब्स्क्राइब करें

Also watch - भारत के इन 5 महा-प्रोजेक्ट्स को देख हैरान रह जाएंगे आप, Top 5 Upcoming Mega Projects in INDIA 2020.