Home > मुख्य ख़बरें > दिशा को कोर्ट से मिली जमानत, लेकिन जेल से बाहर आने के लिए माननी होगी ये शर्त

दिशा को कोर्ट से मिली जमानत, लेकिन जेल से बाहर आने के लिए माननी होगी ये शर्त

नई दिल्ली: टूलकिट केस में दिशा रवि को मंगलवार को दिल्ली की अदालत ने सशर्त जमानत दे दी है। दिशा को जमानत के लिए एक लाख का मुचलका भरना होगा।  न्यायाधीश धर्मेंद्र राणा ने आज इस मामले की सुनवाई करते हुए दिशा की जमानत अर्जी मंजूर कर ली।

Bharti News एक ऑनलाइन News चैनल है, जो आपको ताज़ा खबरों से अपडेट रखता है. मनोरंजक और रोचक खबरों के लिए Subscribe करें Bharti News का यूट्यूब चैनल.

Also watch - खुलासा : कॉन्ग्रेस और भारत में दंगे करने वाली ताकतों के कनेक्शन का पर्दाफ़ाश

नोट : सेकुलरिज्म के चक्कर में टीवी मीडिया आपसे कई महत्वपूर्ण ख़बरें छिपा लेता है, फेसबुक और ट्विटर भी अब वामपंथी ताकतों के गुलाम बनकर राष्ट्रवादी ख़बरें आप तक नहीं पहुंचने दे रहे. ऐसे में यदि आप सच्ची व् निष्पक्ष ख़बरें पढ़ना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करके Bharti News App अपने फ़ोन में इनस्टॉल करें.

हालांकि कोर्ट के फैसले पर दिशा के वकीलों ने कहा कि वह ऐसे परिवार से नहीं आती जो इतनी बड़ी रकम वहन कर सके।  दिशा अभी भी अपने वकीलों के साथ कोर्ट रूम में ही हैं।  वकीलों के साथ उनकी बातचीत चल रही है।

कौन हैं दिशा रवि, जिन्हें ग्रेटा थनबर्ग टूलकिट मामले में दिल्ली पुलिस ने बेंगलुरु से किया अरेस्ट

दिशा रवि को मिली जमानत, लेकिन जेल से बाहर आने के लिए माननी होगी ये शर्त(फोटो:सोशल मीडिया)

आज दिन भर क्या कुछ हुआ?

टूलकिट केस में दिल्ली पुलिस ने आज साइबर सेल ऑफिस में निकिता जैकब, शांतनु और दिशा रवि को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की।

कल भी दिल्ली पुलिस ने निकिता जैकब और शांतनु से करीब 5 घंटे तक पूछताछ की थी। कल ही पुलिस ने दिशा रवि की रिमांड को बढ़ाने की मांग की थी।

पुलिस का कहना था कि हम तीनों को एक साथ बैठाकर पूछताछ करना चाहते हैं। इस दलील को सुनने के बाद कोर्ट ने दिशा रवि की रिमांड एक दिन बढ़ा दी थी।

कौन हैं दिशा रवि और क्या हैं उन पर आरोप

दिशा रवि फ्राइडे फॉर फ्यूचर कैम्पेन की संस्थापक सदस्यों में से एक हैं। इसके अलावा वह एक क्लाइमेट एक्टिविस्ट भी हैं।

आरोप है कि दिशा रवि ने किसानों से जुड़े टूलकिट को एडिट किया और उसमें कुछ चीजें जोड़ीं और उसे आगे भेजा। ये सब किसानों को भड़काने के लिए किया गया था।

दिशा ने क्यों कहा डिलीट कर दो टूलकिट, सामने आई ग्रेटा संग चैट, जानें क्या हुई बात

दिशा रवि को मिली जमानत, लेकिन जेल से बाहर आने के लिए माननी होगी ये शर्त(फोटो:सोशल मीडिया)

क्या है ये पूरा मामला

दरअसल किसान आंदोलन को लेकर पर्यावरण संरक्षक ग्रेटा थनबर्ग ने हाल ही में एक टूल किट को ट्वीट किया था। जिसे उन्होंने बाद में हटा दिया।

जांच में पता चला है कि इस टूल किट का स्क्रिप्ट राइटर एक खालिस्तानी संगठन है। इस मामले में दिल्ली पुलिस पड़ताल कर रही है। टूक किट मामले में अब दिशा रवि को अरेस्ट किया गया है।

दिल्ली पुलिस ने गूगल और अन्य बड़ी सोशल मीडिया कंपनियों से टूल किट दस्तावेजों में जिन ई-मेल आईडी और यूआरएल का जिक्र किया गया था उनकी जानकारियों को लेकर सफाई मांगी थी।

ग्रेटा थनबर्ग के अलावा अमेरिका की पॉप सिंगर रिहाना, मिया खलीफा जैसी कई मशहूर हस्तियों ने भी किसान आंदोलन को लेकर ट्वीट किया था।

ग्रेटा ने अपने टूल किट का जिक्र करते हुए लिखा था कि यदि आप भी मदद करना चाहते हैं तो यह रहा टूल किट। दिल्ली पुलिस 26 जनवरी को लाल किले में हुई हिंसा को लेकर टूलकिट मामले की जांच-पड़ताल भी कर रही है।

दिशा रवि के पक्ष-विपक्ष में आए राजनेता, तालिबानी फैसले की मांग

हमें आप जैसे राष्ट्रवादी लोगों के सहयोग की जरुरत है, जो "राष्ट्र प्रथम" पत्रकारिता में अपना सहयोग देना चाहते हों. देश या विदेश, कहीं से भी सहायता राशि देने के लिए नीचे दिए बटन पर क्लिक करें.

App download

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुडी सभी ख़बरें सीधे अपने मोबाईल पर पाने के लिए Bharti News App डाउनलोड करें.

YouTube चैनल सब्स्क्राइब करें

Also watch - भारत के इन 5 महा-प्रोजेक्ट्स को देख हैरान रह जाएंगे आप, Top 5 Upcoming Mega Projects in INDIA 2020.