Home > मुख्य ख़बरें > खुलासाः कोडिंग करने में महारत हासिल कर चुका है पाकिस्तान का ये आतंकी, पूछताछ जारी

खुलासाः कोडिंग करने में महारत हासिल कर चुका है पाकिस्तान का ये आतंकी, पूछताछ जारी

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के हत्थे चढ़े संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकी मोहम्मद अशरफ ने पूछताछ में कई खुलासे किए हैं.  सूत्रों के मुताबिक अशरफ ने कोडिंग करने में महारत हासिल कर ली है. यही वजह है कि वो आतंकी घटनाओं को अंजाम देने के लिए कोड वर्ड का इस्तेमाल करता था. जम्मू कश्मीर पुलिस और मिलिट्री इंटेलीजेंसी के साथ-साथ आईबी की टीम उससे लगातार पूछताछ कर रही है.

नोट : सेकुलरिज्म के चक्कर में टीवी मीडिया आपसे कई महत्वपूर्ण ख़बरें छिपा लेता है, फेसबुक और ट्विटर भी अब वामपंथी ताकतों के गुलाम बनकर राष्ट्रवादी ख़बरें आप तक नहीं पहुंचने दे रहे. ऐसे में यदि आप सच्ची व् निष्पक्ष ख़बरें पढ़ना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करके Bharti News App अपने फ़ोन में इनस्टॉल करें.



Bharti News एक ऑनलाइन News चैनल है, जो आपको ताज़ा खबरों से अपडेट रखता है. मनोरंजक और रोचक खबरों के लिए Subscribe करें Bharti News का यूट्यूब चैनल.

पाकिस्तानी एजेंट अशरफ से पूछताछ में पता चला कि साल 2004-2005 में भारत आने के बाद पहले 5 साल उसने केवल अपनी पहचान बनाने और पहचान वाले डाक्यूमेंट्स तैयार करने में लगाए. वो 2 साल अजमेर में एक हिन्दू परिवार के घर में किराए पर रहा. वहां वो रेहड़ी पर काम करने लगा. इसके बाद वो बंगाल और बिहार की तरफ गया और वहां लोगों से संबंध बनाने में जुट गया था. 

जानकारी के मुताबिक साल 2009 से अशरफ जम्मू कश्मीर में एक्टिव हो गया था. वहां वो लगातार सेना के मूवमेंट पर नजर रख रहा था. अपने हैंडलर्स को जानकारी भेजने के लिए वो ड्राफ्ट में मेल सेव कर देता था. वहां वो सारी जानकारी कोडिंग में देता था. 

वो खुद को दिहाड़ी मजदूर बता कर वहां टिका रहता था और सेना की गाड़ियों के नम्बर की सूचना अपने हैंडलर्स को देता था. मजदूर होने की वजह से कोई उस पर शक भी नहीं करता था. उसने शादी भी केवल इसीलिए की थी कि किसी घर मे आसानी से एंट्री ले सके. जानकारी के अनुसार 3 महीने के बाद उसने अपनी पत्नी को छोड़ दिया था.

सूत्रों के मुताबिक, साल 2011 में हाईकोर्ट के बाहर जो ब्लास्ट हुए थे उस दौरान इसने ही हाईकोर्ट की रेकी की थी. संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकी अशरफ को ब्लास्ट में शामिल एक संदिग्ध की फोटो दिखाई गई तो अशरफ ने बताया कि उसने ही हाईकोर्ट की रेकी की थी. हालांकि ये उस ब्लास्ट में शामिल था या नहीं ये अभी पूछताछ में साफ होगा. 

आरोपी अशरफ ने साल 2011 के आसपास आईटीओ स्थित पुलिस हेडक्वाटर (पुराना पुलिस हेडक्वाटर) की रेकी भी की थी. उसने पूछताछ में बताया कि उसने कई बार रेकी की लेकिन ज्यादा जानकारी नहीं मिल पाई क्योंकि पुलिस हेडक्वाटर के बाहर लोगों को रुकने की इजाजत नहीं थी. उसने आईएसबीटी की भी रेकी कर जानकरियां पाकिस्तान के हैंडलर्स को भेजी थी.

आतंकी ने पूछताछ में बताया कि साल 2009 में जम्मू में बस स्टैंड पर एक ब्लास्ट हुआ था, जिसमें 3-4 लोगों की मौत हो गई थी. उसने यहा धमाका आईएसआई के अफ़सर नासिर के कहने पर किया था. जम्मू कश्मीर में 5 आर्मी के जवानों की बेरहमी से हत्या की बात भी आरोपी ने कुबूल की है, जिसको वेरिफ़ाई किया जा रहा.

हमें आप जैसे राष्ट्रवादी लोगों के सहयोग की जरुरत है, जो "राष्ट्र प्रथम" पत्रकारिता में अपना सहयोग देना चाहते हों. देश या विदेश, कहीं से भी सहायता राशि देने के लिए नीचे दिए बटन पर क्लिक करें.

App download

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुडी सभी ख़बरें सीधे अपने मोबाईल पर पाने के लिए Bharti News App डाउनलोड करें.

YouTube चैनल सब्स्क्राइब करें