Home > मुख्य ख़बरें > लक्खा का पुलिस को ठेंगाः किसान रैली में मौजूद, आंदोलन को झटका या खतरनाक मोड़

लक्खा का पुलिस को ठेंगाः किसान रैली में मौजूद, आंदोलन को झटका या खतरनाक मोड़

रामकृष्ण वाजपेयी

Bharti News एक ऑनलाइन News चैनल है, जो आपको ताज़ा खबरों से अपडेट रखता है. मनोरंजक और रोचक खबरों के लिए Subscribe करें Bharti News का यूट्यूब चैनल.

Also watch - खुलासा : कॉन्ग्रेस और भारत में दंगे करने वाली ताकतों के कनेक्शन का पर्दाफ़ाश

नोट : सेकुलरिज्म के चक्कर में टीवी मीडिया आपसे कई महत्वपूर्ण ख़बरें छिपा लेता है, फेसबुक और ट्विटर भी अब वामपंथी ताकतों के गुलाम बनकर राष्ट्रवादी ख़बरें आप तक नहीं पहुंचने दे रहे. ऐसे में यदि आप सच्ची व् निष्पक्ष ख़बरें पढ़ना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करके Bharti News App अपने फ़ोन में इनस्टॉल करें.

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के पैतृक गांव मेहराज में किसान रोष रैली करके दिल्ली हिंसा के आरोपी और एक लाख के इनामी लक्खा सिधाना ने दिल्ली पुलिस को ऐलानिया ललकारा है। लक्खा सिधाना ने पहले ही दिल्ली पुलिस को इंटरनेट मीडिया से चुनौती देते हुए कहा था कि वह 23 फरवरी को बठिंडा के मेहराज में रोष रैली में शामिल होगा। पुलिस उसे गिरफ्तार करके दिखाए। रैली के दौरान मेहराज और उसके आसपास के इलाकों में घरों पर बड़ी संख्या में खालसा झंडे फहरते नजर आए। रैली में एक आदमी के हाथ में भिंडरावाले की तस्वीर का झंडा भी था। लेकिन मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की पुलिस को ये दिखाई क्यों नहीं दिया।

पंजाब के गैंगस्टर लक्खा सिधाना की किसान रैली

लख्खा एक शातिर अपराधी है। पंजाब में उसके ऊपर तमाम मुकदमे हैं। बावजूद इसके पंजाब पुलिस का हाथ पर हाथ धरे बैठे रहना इस मामले में कांग्रेस और कैप्टन अमरिंदर सिंह की भूमिका को बेनकाब करता है। अभी तक तो पंजाब पुलिस उत्तर प्रदेश के माफिया मुख्तार अंसारी को संरक्षण देने के लिए बदनाम थी लेकिन इस घटना ने तो उसकी पूरी तरह से मिट्टी पलीद कर दी है। जबकि एक फरार मुजरिम एलानिया मुख्यमंत्री के गांव में रैली करके पूरे पुलिस प्रशासन को ललकारता है।

ये भी पढ़ेँ- 

दिल्ली हिंसा में लक्खा पर एक लाख का इनाम, फरार

इससे किसान आंदोलन पर भी सवाल उठेंगे। शुरुआत से ही किसान आंदोलन में अलगाववादियों, अराजक तत्वों की घुसपैठ की बातें उठती रही हैं। अपनी मांगों को लेकर आवाज उठाना ठीक है लेकिन अपना मंच अपराधियों को सौंप देने को कैसे सही ठहराएंगे किसान नेता। जबकि लख्खा सिधाना के तेवर सामान्य आंदोलन के नहीं लग रहे हैं।

सिधाना का पुलिस को चैलेंज- गिरफ्तार करके दिखाएं

वह कहता है कि अगर दिल्ली पुलिस आए तो गुरुद्वारा से अनाउसमेंट करवाओ और पुलिस को वही बैठा दो। दिल्ली पुलिस गिरफ्तार करने पंजाब पुलिस के साथ आए तो इसके जिम्मेदार पंजाब के मुख्यमंत्री होंगे। हमें गद्दार कहा जाता है, लेकिन फर्क नहीं पड़ता।

ये भी पढेँ –

पंजाब की पुलिस सिधाना की गिरफ्तारी में फेल

सिधाना ने आगे कहा हम पंजाब की लड़ाई लड़ रहे हैं। लक्खा सिधाना ने आगे कहा कि पंजाब का हर व्यक्ति दिल्ली जाएगा। ये हक्क की लड़ाई है, ये सभी की लड़ाई है। दीप सिधू रिमांड पर है। आने वाले दिनों इस केस को कोई और रंग दिया जाएगा। कानून रद्द करके ही चैन से बैठेंगे।

लालकिला हिंसा मामले में दिल्ली पुलिस ने पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू, जुगराज सिंह, गुरजोत सिंह व गुरजंत सिंह पर एक-एक लाख रुपये का इनाम घोषित किया था, बाद में इसमें लक्खा का भी नाम जोड़ दिया था।

दिल्ली पुलिस और पंजाब पुलिस ने कार्रवाई क्यों नहीं की

सवाल ये हैं कि जब लक्खा सिधाना ने एलान कर दिया था कि वह रैली में जाएगा पुलिस गिरफ्तार करके दिखाए फिर वह रैली में एक घंटा रहा बावजूद इसके दिल्ली पुलिस और पंजाब पुलिस ने कार्रवाई क्यों नहीं की। जानकारी के मुताबिक पंजाब में लक्खा के ऊपर 20 आपराधिक मामले थे, इन सभी में वो बरी हो चुका है। इसके अलावा वह विधानसभा का चुनाव भी लड़ चुका है।

हमें आप जैसे राष्ट्रवादी लोगों के सहयोग की जरुरत है, जो "राष्ट्र प्रथम" पत्रकारिता में अपना सहयोग देना चाहते हों. देश या विदेश, कहीं से भी सहायता राशि देने के लिए नीचे दिए बटन पर क्लिक करें.

App download

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुडी सभी ख़बरें सीधे अपने मोबाईल पर पाने के लिए Bharti News App डाउनलोड करें.

YouTube चैनल सब्स्क्राइब करें

Also watch - भारत के इन 5 महा-प्रोजेक्ट्स को देख हैरान रह जाएंगे आप, Top 5 Upcoming Mega Projects in INDIA 2020.