Home > मुख्य ख़बरें > कोरोना संकट से उबर रही भारतीय अर्थव्यवस्था: वर्ल्ड बैंक प्रेसिडेंट डेविड मालपास

कोरोना संकट से उबर रही भारतीय अर्थव्यवस्था: वर्ल्ड बैंक प्रेसिडेंट डेविड मालपास

भारतीय अर्थव्यवस्था कोरोना संकट से उबर रही है. यह बात वर्ल्ड बैंक प्रेसिडेंट डेविड मालपास ने बुधवार को कही. डेविड मालपास ने कहा, भारतीय अर्थव्यवस्था पर कोरोना का काफी असर पड़ा था, लेकिन अब यह उबर रही है और वर्ल्ड बैंक इसका स्वागत करता है.  

नोट : सेकुलरिज्म के चक्कर में टीवी मीडिया आपसे कई महत्वपूर्ण ख़बरें छिपा लेता है, फेसबुक और ट्विटर भी अब वामपंथी ताकतों के गुलाम बनकर राष्ट्रवादी ख़बरें आप तक नहीं पहुंचने दे रहे. ऐसे में यदि आप सच्ची व् निष्पक्ष ख़बरें पढ़ना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करके Bharti News App अपने फ़ोन में इनस्टॉल करें.



Bharti News एक ऑनलाइन News चैनल है, जो आपको ताज़ा खबरों से अपडेट रखता है. मनोरंजक और रोचक खबरों के लिए Subscribe करें Bharti News का यूट्यूब चैनल.

डेविड मालपास ने यह भी कहा, भारत औपचारिक क्षेत्र की अर्थव्यवस्था में अधिक लोगों को एकीकृत करने और लोगों की कमाई बढ़ाने की बड़ी चुनौतियों का सामना कर रहा है. हालांकि, भारत ने कुछ प्रगति की है. यह पर्याप्त नहीं है. 

'वैक्सीनेशन के प्रयास में प्रगति हुई'

मालपास ने कहा, भारत कोरोना की लहरों की चपेट में आया, यह दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने वैक्सीन का बड़ी मात्रा में उत्पादन के साथ प्रतिक्रिया दी, वैक्सीनेशन के प्रयास में प्रगति हुई है. लेकिन हमें भारतीय अर्थव्यवस्था पर और विशेष रूप से भारतीय अर्थव्यवस्था के अनौपचारिक क्षेत्र पर, जो कि बहुत बड़ा है, कोरोना के कारण हुए नुकसान को पहचानना होगा. 

मुद्रास्फीति से भारत भी प्रभावित

इससे पहले वर्ल्ड बैंक ने भारतीय अर्थव्यवस्था के 8.3 प्रतिशत की दर से बढ़ने का अनुमान जताया है. इस पर मालपास ने कहा, उन्होंने यह भी कहा कि भारत, अन्य देशों की तरह, अब कोरोना की वजह से आपूर्ति श्रृंखला में व्यवधान का सामना कर रहा है. हालांकि, भारतीय अर्थव्यवस्था अब उबर रही है. हम इसका स्वागत करते हैं. लेकिन भारत, अन्य देशों की तरह, अब आपूर्ति श्रृंखला में व्यवधान और दुनिया में बढ़ रही मुद्रास्फीति से बहुत प्रभावित है. 

उन्होंने कहा कि वे 2019 के अंत में भारत गए थे और वहां किए जा रहे बदलावों को देखा जो बैंकिंग प्रणाली, वित्तीय प्रणाली, सिविल सेवा प्रणाली और भारत के स्वच्छ पानी में सुधार के तरीकों की तलाश में काफी सकारात्मक थे. स्वच्छ जल में सुधार के तरीके भारत में पोषण और बाल पोषण के लिए बहुत अहम हैं. स्वच्छ जल जीवन के लिए सबसे महत्वपूर्ण प्रारंभिक बिंदुओं में से एक है. 

;

हमें आप जैसे राष्ट्रवादी लोगों के सहयोग की जरुरत है, जो "राष्ट्र प्रथम" पत्रकारिता में अपना सहयोग देना चाहते हों. देश या विदेश, कहीं से भी सहायता राशि देने के लिए नीचे दिए बटन पर क्लिक करें.

App download

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुडी सभी ख़बरें सीधे अपने मोबाईल पर पाने के लिए Bharti News App डाउनलोड करें.

YouTube चैनल सब्स्क्राइब करें