Home > मुख्य ख़बरें > भारत सरकार को अब जरूरत नहीं WhatsApp को बर्बाद करने की, अब Zuckerberg का App ये काम खुद कर रहा है

भारत सरकार को अब जरूरत नहीं WhatsApp को बर्बाद करने की, अब Zuckerberg का App ये काम खुद कर रहा है

किसी गलती को एक बार करने के बाद उसे दोहराने की हिम्मत दिखाना किसी भी व्यक्ति या संगठन को विश्व में कहीं भी महंगा पड़ सकता है, लेकिन अगर बात भारतीयों की हो, तो वो तो ऐसे कई षठ विचार वालों को सटीक सबक सिखा चुके हैं, जिसमें एक नाम अब Facebook के स्वामित्व वाली इंस्टेंट मैसेजिंग मोबाइल एप्लिकेशन WhatsApp का भी जुड़ जाएगा। इसकी वजह एप्लिकेशन की प्राइवेसी पॉलिसी है। इससे पहले भी भारत में इस मुद्दे पर WhatsApp ने मुंह की खाई है, इसके बावजूद वो इन्हें लागू करने की जिद पर अड़ा है। अब इन परिस्थितियों में भारतीय यूजर्स कंपनी को तगड़ा झटका दे सकते हैं।

Bharti News एक ऑनलाइन News चैनल है, जो आपको ताज़ा खबरों से अपडेट रखता है. मनोरंजक और रोचक खबरों के लिए Subscribe करें Bharti News का यूट्यूब चैनल.

Also watch - खुलासा : कॉन्ग्रेस और भारत में दंगे करने वाली ताकतों के कनेक्शन का पर्दाफ़ाश

नोट : सेकुलरिज्म के चक्कर में टीवी मीडिया आपसे कई महत्वपूर्ण ख़बरें छिपा लेता है, फेसबुक और ट्विटर भी अब वामपंथी ताकतों के गुलाम बनकर राष्ट्रवादी ख़बरें आप तक नहीं पहुंचने दे रहे. ऐसे में यदि आप सच्ची व् निष्पक्ष ख़बरें पढ़ना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करके Bharti News App अपने फ़ोन में इनस्टॉल करें.

WhatsApp ने पहले भी प्राइवेसी पॉलिसी के बदलाव को लेकर भारतीय यूजर्स को एक नोटिफिकेशन दी थी जिसके लिए उसे आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ा था। इस प्राइवेसी पॉलिसी के तहत यूजर्स का फोन नंबर, बैंकिंग ट्रांजैक्शन डेटा, सर्विस-रिलेटेड इन्‍फॉर्मेशन, दूसरों से सभी तरह के तरह इंटरेक्टशन की डिटेल्स, मोबाइल डिवाइस इन्‍फॉर्मेशन, आईपी एड्रेस, WhatsApp सर्विस और डेटा की प्रोसेसिंग तक की जानकारी WhatsApp अपने पास रखेगा। नतीजा ये हुआ कि WhatsApp की फजीहत शुरू हो गई। इसके बावजूद भारत में अब WhatsApp 15 मई से इन सभी पॉलिसियों को लागू करने की बात कर रहा है।

और पढ़ें-

खबरों के मुताबिक अब 15 मई के बाद कंपनी ये फिर से वो पॉलिसी लागू कर देगी और जो इनसे सहमति नही रखेगा उसका अकाउंट 120 दिनों के बाद स्वतः ही डिलीट हो जाएगा। ऐसे में कंपनी की तरफ से कहा गया कि ये सबकुछ केवल WhatsApp के बिजनस अकाउंट्स के लिए ही होगा, और निजी अकाउंट पर इस पॉलिसी से कोई असर नहीं पड़ेगा। WhatsApp तो अब अपनी इस नीति को लागू करने को लेकर आश्वस्त है, लेकिन उसे भारतीयों के आक्रोश का शायद अंदाज़ा नहीं है।

इससे पहले जब WhatsApp ने प्राइवसी पॉलिसी बदलने की बात कही थी, तो उसके डाउनलोड्स में  ऐतिहासिक गिरावट आई थी। भारतीय लोग सिग्नल, टेलीग्राम, हाइक जैसे प्लेटफार्म डाउनलोड करने लगे थे। स्थिति ये हो गई थी कि भारत के एक बड़े वर्ग ने WhatsApp अकाउंट को खुद ही डिलीट कर दिया था। इसके बाद भारत सरकार से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक WhatsApp को लेकर सख्त बयान देने लगा था। ऐसे में WhatsApp ने अपनी नीति बदली थी।

और पढ़ें

WhatsApp का कहना था कि वो ये नई नीतियां सिर्फ बिजनेस अकाउंट्स के लिए ही लाया है। इसके लिए कंपनी ने लोगों के स्टेट्स वाले सेक्शन में नोटिफिकेशन भी भेजी थी। कंपनी का कहना था कि वो भारतीयों को पहले इस नई नीति के बारे में अब बताएगी, फिर लागू करेंगी। WhatsApp ने इसके लिए राष्ट्रीय स्तर पर खूब प्रचार किया। देश के लगभग-लगभग सभी अखबारों से लेकर टीवी चैनलों में विज्ञापन और सड़कों पर बिल बोर्ड्स के जरिए लोगों को समझाने की कोशिश की कि नई नीतियों से निजी अकाउंट्स को कोई असर नहीं पड़ेगा, साथ ही अब कंपनी ने नई तारीख 15 मई दी है। जैसे-जैसे तारीख नजदीक आ रही है, वैसे-वैसे भारत में कंपनी फिर से अपनी नई प्राइवेसी पॉलिसी का उल्लेख करने लगी है। एक बार के रवैए के बाद कंपनी दोबारा उसी नीति पर चल रही है। ऐसे में इस बार भारतीय सरकार के पहले यहां की जनता ही कंपनी को सबक सिखा देगी क्योंकि अब तो सरकार ने देसी ‘संदेस’ एप्लिकेशन भी शुरू कर दिया है, और ये WhatsApp की नई प्राइवेसी पॉलिसी की जिद उसके लिए सर्वनाश होने का काम करेगी।

हमें आप जैसे राष्ट्रवादी लोगों के सहयोग की जरुरत है, जो "राष्ट्र प्रथम" पत्रकारिता में अपना सहयोग देना चाहते हों. देश या विदेश, कहीं से भी सहायता राशि देने के लिए नीचे दिए बटन पर क्लिक करें.

App download

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुडी सभी ख़बरें सीधे अपने मोबाईल पर पाने के लिए Bharti News App डाउनलोड करें.

YouTube चैनल सब्स्क्राइब करें

Also watch - भारत के इन 5 महा-प्रोजेक्ट्स को देख हैरान रह जाएंगे आप, Top 5 Upcoming Mega Projects in INDIA 2020.