Home > मुख्य ख़बरें > मुंबई पुलिस के पूर्व चीफ परमबीर सिंह पर एक और आफत, अब रंगदारी मामले में मुंबई में FIR दर्ज

मुंबई पुलिस के पूर्व चीफ परमबीर सिंह पर एक और आफत, अब रंगदारी मामले में मुंबई में FIR दर्ज

महाराष्ट्र में भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना कर रहे मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह एक और मामले में घिर गए हैं। पहले से ही कई मुश्किलों का सामना कर रहे परमबीर सिंह के खिलाफ मरीन ड्राइव पुलिस स्टेशन में रंगदारी का एक केस दर्ज किया गया है। परमबीर सिंह पर एक बिजनेसमैन से रिश्त मांगने का आरोप है। बता दें कि हाल ही में महाराष्ट्र सरकार ने मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों की खुली जांच करने के लिए भ्रष्टाचार रोधी ब्यूरो (एसीबी) को अनुमति दी है। 

नोट : सेकुलरिज्म के चक्कर में टीवी मीडिया आपसे कई महत्वपूर्ण ख़बरें छिपा लेता है, फेसबुक और ट्विटर भी अब वामपंथी ताकतों के गुलाम बनकर राष्ट्रवादी ख़बरें आप तक नहीं पहुंचने दे रहे. ऐसे में यदि आप सच्ची व् निष्पक्ष ख़बरें पढ़ना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करके Bharti News App अपने फ़ोन में इनस्टॉल करें.



Bharti News एक ऑनलाइन News चैनल है, जो आपको ताज़ा खबरों से अपडेट रखता है. मनोरंजक और रोचक खबरों के लिए Subscribe करें Bharti News का यूट्यूब चैनल.

समाचार एजेंसी एनआई के मुताबिक, मरीन ड्राइव पुलिस स्टेशन में मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह के खिलाफ रंगदारी का मामला दर्ज किया गया है। मुंबई पुलिस ने बताया है कि शिकायतकर्ता व्यवसायी है। एफआईआर में कुल 8 लोगों के नाम हैं, जिनमें 6 पुलिस कर्मी भी शामिल हैं। इस मामले में अब तक दो लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। 

बिजनेसमैन ने एफआईआर में आरोप लगाया है कि परमबीर सिंह ने उसके खिलाफ कुछ मामलों के निपटारे के लिए रिश्वत की मांग की थी। मीडिया रिपोर्ट की मानें तो बिजनेसमैन से 15 करोड़ रुपए के रिश्वत की मांग की गई थी। फिलहाल, पुलिस इस मामले की जांच में जुट गई है।

परमबीर सिंह 1988 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। अंबानी आवास के बाहर से एक गाड़ी में विस्फोट मिलने के मामले में पुलिस अधिकारी सचिन वाजे की गिरफ्तारी के बाद परमबीर सिंह को मुंबई के पुलिस आयुक्त पद से हटा दिया गया था और होमगार्ड में स्थानांतरित कर दिया गया। सिंह ने बाद में महाराष्ट्र के तत्कालीन गृह मंत्री अनिल देशमुख पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए जिस वजह से उन्हें इस्तीफा देना पड़ा था।

हमें आप जैसे राष्ट्रवादी लोगों के सहयोग की जरुरत है, जो "राष्ट्र प्रथम" पत्रकारिता में अपना सहयोग देना चाहते हों. देश या विदेश, कहीं से भी सहायता राशि देने के लिए नीचे दिए बटन पर क्लिक करें.

App download

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुडी सभी ख़बरें सीधे अपने मोबाईल पर पाने के लिए Bharti News App डाउनलोड करें.

YouTube चैनल सब्स्क्राइब करें