Home > मुख्य ख़बरें > इंटरनेशनल तस्कर के संपर्क में आर्यन खान... NCB की कोर्ट से अपील- नहीं दें जमानत 

इंटरनेशनल तस्कर के संपर्क में आर्यन खान... NCB की कोर्ट से अपील- नहीं दें जमानत 

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने आर्यन खान, मॉडल मुनमुन धमेचा और अभिनेता अरबाज मर्चेंट की जमानत याचिका का विरोध करते हुए अदालत को बताया कि उन्होंने विदेश मंत्रालय को पत्र लिखकर एक विदेशी नागरिक को गिरफ्तार करने में मदद मांगी है। एनसीबी का आरोप है कि आरोपियों ने एक संदिग्ध तस्कर के साथ चर्चा की है। एजेंसी ने अदालत को बताया कि आर्यन खान ने तस्करों से बल्क ड्रग्स के बारे में बातचीत की है और अभिनेता अरबाज मर्चेंट के जरिए ड्रग्स की खरीद करता था।

नोट : सेकुलरिज्म के चक्कर में टीवी मीडिया आपसे कई महत्वपूर्ण ख़बरें छिपा लेता है, फेसबुक और ट्विटर भी अब वामपंथी ताकतों के गुलाम बनकर राष्ट्रवादी ख़बरें आप तक नहीं पहुंचने दे रहे. ऐसे में यदि आप सच्ची व् निष्पक्ष ख़बरें पढ़ना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करके Bharti News App अपने फ़ोन में इनस्टॉल करें.



Bharti News एक ऑनलाइन News चैनल है, जो आपको ताज़ा खबरों से अपडेट रखता है. मनोरंजक और रोचक खबरों के लिए Subscribe करें Bharti News का यूट्यूब चैनल.

एनसीबी की ओर से पेश हुए अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल अनिल सिंह ने अदालत में तीनों की जमानत याचिकाओं का विरोध किया।आपको बता दें कि एनसीबी मादक पदार्थों की तस्करी से निपटने वाली एक एजेंसी है। युवाओं द्वारा नशीले पदार्थों का सेवन न केवल आर्थिक रूप से बल्कि अन्य तरीके से भी पूरे देश को प्रभावित कर रहा है। 

20 आरोपियों में से 4 ड्रग्स तस्कर
अनिल सिंह ने कोर्ट में कहा, “वे तर्क दे रहे हैं कि आर्यन खान को क्रूज जहाज में आमंत्रित किया गया था, लेकिन किसने आमंत्रित किया और जब आमंत्रित किया गया तो रिकॉर्ड में कुछ भी नहीं दिखाया गया है।'' उन्होंने कहा, ''यह कोई साधारण मामला नहीं है कि आपको आमंत्रित किया गया था और आपने केवल ड्रग्स का सेवन किया है। तीसरी रिमांड अर्जी के बाद हमने नारकोटिक्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस एक्ट (एनडीपीएस) एक्ट की धारा 29 लागू की है जो उकसाने और आपराधिक साजिश के लिए है। 20 आरोपी हैं, जिनमें से चार ड्रग तस्कर हैं। हमारे पास व्हाट्सएऐप चैट के रूप में सबूत हैं कि आर्यन खान और अरबाज मर्चेंट उनके संपर्क में थे।”

चैट में खरीद बिक्री की बात
एएसजी ने अदालत को आगे बताया, "ऐसी चैट हैं जिनमें खरीद-बिक्री के लिए जरूरी मात्रा या थोक मात्रा के बारे में उल्लेख किया गया है। हार्ड ड्रग्स के संदर्भ में वे विदेशी नागरिकों के साथ चैट कर रहे हैं। कोई खपत के लिए भारी मात्रा में ऑर्डर नहीं देगा। यह कुछ और है। हमने विदेश मंत्रालय से बात की है और विदेशी नागरिक का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं।''

ASG ने कोर्ट में लगा दी दलीलों की झड़ी
कोर्ट में जमानत का विरोध करते हुए  एएसजी ने दलीलों की झड़ी लगा दी। उन्होंने कहा, “यह एक नेटवर्क है और सभी जुड़े हुए हैं। अगर उन्हें जमानत दी जाती है तो यह हमारी आगे की जांच में बाधा उत्पन्न करेगा। दोनों के सेवन के लिए प्रतिबंधित पदार्थ अरबाज के पास था। दोनों को इसकी जानकारी थी।'' उन्होंने दलील दी कि, ''एनडीपीएस की धारा 29 लागू होने पर जो भी मात्रा हो, साजिश के कारण सभी के लिए सजा समान होगी। जिस व्यक्ति पर अपराध का आरोप लगाया गया है, उसे साजिशकर्ता के समान अपराध के साथ दंडित किया जाएगा।”

आर्यन खान के वकीलों ने भी तर्क दिया है कि उन्होंने अपना बयान वापस ले लिया है। उन्होंने 3 अक्टूबर को भी ऐसा ही किया था लेकिन हमने 4 अक्टूबर को उनका बयान भी दर्ज किया है जो वापस नहीं लिया गया है। इसपर एएसजी ने कहा, “आपको वापस लेने का अधिकार है लेकिन जब आप कह रहे हैं कि आप पीछे हट गए हैं। आपने अपना दूसरा बयान वापस नहीं लिया है जो आपके उपभोग के बारे में बात करता है।"

आर्यन के वकील ने बचाव में क्या कहा
आर्यन के वकील अमित देसाई ने एनसीबी के काम पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि केंद्रीय जांच एजेंसी ने 4 अप्रैल को अंतरराष्ट्रीय तस्करी की बात कही थी। आज 13 तारीख है, इस बीच में कुछ भी नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि जिस प्रतीक ने आर्यन को पार्टी में बुलाया, उसे पुलिस ने गिरफ्तार नहीं किया।

देसाई ने कहा कि सभी आरोपी युवा हैं। वे हिरासत में हैं और उन्हें सबक मिल गया है। उन्होंने काफी कुछ सहा है। हालांकि, वे ड्रग पेडलर नहीं हैं। देसाई ने कहा कि कई देशों में इस पदार्थ को कानूनी मान्यता है। व्हाट्सएप चैट की सत्यता या सटीकता स्थापित किए बिना, अभियोजन पक्ष वर्तमान कार्यवाही में आर्यन को उलझाने के लिए पूरी तरह से कुछ कथित चैट पर भरोसा कर रहा है। इसके अलावा, ऐसा कुछ भी नहीं है, जिससे यह पता चलता है कि इन कथित चैट का उस (क्रूज ड्रग केस) मामले से कोई संबंध है।

सलमान को बरी कराने वाले वकील लड़ रहे आर्यन का केस
शाहरुख ने आर्यन की पैरवी के लिए मुंबई के प्रसिद्ध वकील अमित देसाई को रखा है। वे सतीश मानशिंदे के साथ मिलकर इस केस की पैरवी कर रहे हैं। मालूम हो कि देसाई ने साल 2002 में सलमान खान को हिट एंड रन केस में बरी कराया था।

हमें आप जैसे राष्ट्रवादी लोगों के सहयोग की जरुरत है, जो "राष्ट्र प्रथम" पत्रकारिता में अपना सहयोग देना चाहते हों. देश या विदेश, कहीं से भी सहायता राशि देने के लिए नीचे दिए बटन पर क्लिक करें.

App download

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुडी सभी ख़बरें सीधे अपने मोबाईल पर पाने के लिए Bharti News App डाउनलोड करें.

YouTube चैनल सब्स्क्राइब करें