Home > मुख्य ख़बरें > नौसेना के 'किलर्स' स्क्वाड्रन को मिलेगा प्रेसिडेंट स्टैंडर्ड सम्मान, 1971 युद्ध में पाक के छुड़ाए थे छक्के

नौसेना के 'किलर्स' स्क्वाड्रन को मिलेगा प्रेसिडेंट स्टैंडर्ड सम्मान, 1971 युद्ध में पाक के छुड़ाए थे छक्के

भारतीय नौसेना के 22वें मिसाइल वेसल स्क्वाड्रन को उसकी विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आगामी बुधवार को 'प्रेसिडेंट स्टैंडर्ड' से सम्मानित करेंगे। किलर स्क्वाड्रन के नाम से मशहूर इस मिसाइल से भारत ने 1971 की लड़ाई में कराची बंदरगाह पर बमबारी की थी और पाकिस्तानी नौसेना के युद्धक पोत को डुबोया था। 
     
नौसेना के एक अधिकारी ने रविवार को बताया कि 'किलर्स' नाम से प्रसिद्ध 'मिसाइल वेसल स्क्वाड्रन' के गठन को इस साल 50 वर्ष हो गए और पिछले पांच दशकों में इसने समुद्र में आक्रमण की अपनी क्षमता को बनाए रखा है। मुंबई में स्थित 'मिसाइल वेसल स्क्वाड्रन' ने ऑपरेशन विजय और ऑपरेशन पराक्रम में हिस्सा लिया था और हाल ही में पुलवामा हमले के बाद सुरक्षा कड़ी किए जाने पर इसकी तैनाती पाकिस्तान के तटवर्ती इलाकों के बेहद करीब की गई थी।
  
स्क्वाड्रन में तैनात एक अधिकारी ने बताया, ''इस स्क्वाड्रन में शामिल जहाज बहुत तेजी से यात्रा करने की क्षमता रखते हैं और मिसाइल युक्त हैं। इनकी तैनाती भी दुश्मनों को डराने का काम करती है।''

नोट : सेकुलरिज्म के चक्कर में टीवी मीडिया आपसे कई महत्वपूर्ण ख़बरें छिपा लेता है, फेसबुक और ट्विटर भी अब वामपंथी ताकतों के गुलाम बनकर राष्ट्रवादी ख़बरें आप तक नहीं पहुंचने दे रहे. ऐसे में यदि आप सच्ची व् निष्पक्ष ख़बरें पढ़ना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करके Bharti News App अपने फ़ोन में इनस्टॉल करें.



Bharti News एक ऑनलाइन News चैनल है, जो आपको ताज़ा खबरों से अपडेट रखता है. मनोरंजक और रोचक खबरों के लिए Subscribe करें Bharti News का यूट्यूब चैनल.

क्या है प्रेसिडेंट स्टैंडर्ड सम्मान

भारतीय नौसेना द्वारा जारी बयान के अनुसार, भारतीय नौसेना को तत्कालीन राष्ट्रपति डॉक्टर राजेन्द्र प्रसाद ने 'प्रेसिडेंट कलर्स' से 27 मई 1951 को सम्मानित किया था। 'प्रेसिडेंट स्टैंडर्ड' भी 'प्रेसिडेंट कलर्स' जैसा ही सम्मान है, बस यह आनुपातिक रूप से छोटे सैन्य समूह या टुकड़ी को दिया जाता है।
     
वेसल स्क्वाड्रन की पूरी जानकारी 

22वें मिसाइल वेसल स्क्वाड्रन का गठन अक्टूबर 1991 में मुंबई में हुआ और इसमें वीर क्लास (श्रेणी) के 10 और प्रबल क्लास (श्रेणी) के तीन मिसाइल बोट शामिल थे। नौसेना अधिकारियों के मुताबिक, 'किलर्स' नाम की शुरुआत 1969 की है जब भारतीय नौसेना की ताकत बढ़ाने के लिए पूर्ववर्ती यूएसएसआर से लिए गए ओएसए 1 क्लास मिसाइल बोटों को सेना में शामिल किया गया था।

नौसेना के मुताबिक, स्क्वाड्रन के सैनिकों को युद्ध सम्मान जैसे एक महावीर चक्र, सात वीर चक्र और आठ नौसेना मेडल मिले हैं। गौरतलब है कि 1971 भारत-पाकिस्तान युद्ध को 2021 में 50 साल पूरे हुए हैं और देश इसे 'स्वर्णिम विजय वर्ष' के रूप में मना रहा है।

हमें आप जैसे राष्ट्रवादी लोगों के सहयोग की जरुरत है, जो "राष्ट्र प्रथम" पत्रकारिता में अपना सहयोग देना चाहते हों. देश या विदेश, कहीं से भी सहायता राशि देने के लिए नीचे दिए बटन पर क्लिक करें.

App download

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुडी सभी ख़बरें सीधे अपने मोबाईल पर पाने के लिए Bharti News App डाउनलोड करें.

YouTube चैनल सब्स्क्राइब करें