Home > मुख्य ख़बरें > TMC का जिन राज्यों में नहीं जनाधार, वहां के नेता भी क्यों रहे हैं शामिल; जानें अंदरखाने क्या है गणित

TMC का जिन राज्यों में नहीं जनाधार, वहां के नेता भी क्यों रहे हैं शामिल; जानें अंदरखाने क्या है गणित

तृणमूल कांग्रेस ने अब मेघालय के पूर्व सीएम मुकुल संगमा और कांग्रेस के अन्य 11 विधायकों को पार्टी में शामिल कर लिया है। गोवा, बिहार, हरियाणा, यूपी के अलावा पूर्वोत्तर भारत में भी टीएमसी त्रिपुरा और मेघालय जैसे राज्यों में मुख्य विपक्षी दल बनने की स्थिति में है। इसी सप्ताह बिहार कांग्रेस के सीनियर नेता कीर्ति आजाद और हरियाणा में कभी राहुल गांधी के करीबी रहे अशोक तंवर ने भी टीएमसी का दामन थाम लिया था। इनके अलावा जेडीयू के पूर्व सांसद पवन वर्मा भी टीएमसी का हिस्सा बने हैं। इसके बाद भाजपा के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यन स्वामी ने भी ममता बनर्जी से मुलाकात की है और अब मोदी सरकार को फेल करार दिया है। 

नोट : सेकुलरिज्म के चक्कर में टीवी मीडिया आपसे कई महत्वपूर्ण ख़बरें छिपा लेता है, फेसबुक और ट्विटर भी अब वामपंथी ताकतों के गुलाम बनकर राष्ट्रवादी ख़बरें आप तक नहीं पहुंचने दे रहे. ऐसे में यदि आप सच्ची व् निष्पक्ष ख़बरें पढ़ना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करके Bharti News App अपने फ़ोन में इनस्टॉल करें.



Bharti News एक ऑनलाइन News चैनल है, जो आपको ताज़ा खबरों से अपडेट रखता है. मनोरंजक और रोचक खबरों के लिए Subscribe करें Bharti News का यूट्यूब चैनल.

यही नहीं उनसे जब यह पूछा गया कि क्या वह टीएमसी में शामिल होने वाले हैं तो उनका जवाब था कि वह तो पहले से ही उसमें शामिल हैं। इससे उन्होंने साफ संकेत दिया है कि भविष्य में वह पाला बदल कर सकते हैं। भाजपा से वह बीते कई सालों से नाराज भी चल रहे हैं। लेकिन सवाल यह भी है कि बंगाल में भले ही टीएमसी बड़ा जनाधार रखती है, लेकिन हरियाणा, बिहार और यूपी जैसे राज्यों में उसका कोई दखल नहीं है। फिर भी कई सीनियर नेता उसमें क्यों शामिल हो रहे हैं। इसकी इनसाइड स्टोरी में जाएं तो बड़ी वजह राज्यसभा की सीटें भी हैं।

पश्चिम बंगाल में राज्यसभा की कुल 16 सीटे हैं, जिनमें से 12 पर टीएमसी है और 1 अन्य सीट पर उपचुनाव के लिए उसने गोवा में कांग्रेस से आए नेता लुईजिन्हो फलेरियो को उम्मीदवार बनाया है। इस सीट पर 29 नवंबर को उपचुनाव होना है। इसके अलावा 2 सीटें 2023 में खाली होने वाली हैं और 3 सीटें 2024 में खाली होंगी। माना जा रहा है कि कीर्ति आजाद, अशोक तंवर और स्वामी जैसे नेताओं को टीएमसी राज्यसभा भेज सकती है। दरअसल इस तरह इन नेताओं को टीएमसी के जरिए संसद में पहुंचने का रास्ता मिल जाएगा, जिन्हें कांग्रेस या अन्य पार्टी से मौका मिलने के आसार नहीं हैं। 

ऐसे नेताओं को शामिल कराने से टीएमसी को है क्या फायदा

अब यदि टीएमसी के लिहाज से बात करें तो उसके लिए फायदे का सौदा यह है कि उसे उन राज्यों में भी अपनी धाक जमाने का मौका मिल जाएगा, जहां उसका कोई जनाधार नहीं है। फिलहाल टीएमसी उन राज्यों पर फोकस कर रही है, जहां कांग्रेस और भाजपा के बीच सीधा मुकाबला है और कांग्रेस कमजोर है। इसके अलावा यूपी और बिहार जैसे राज्यों में भी वह कांग्रेस की जगह लेना चाहती है क्योंकि वहां उसके नेता उपेक्षित हैं और वे किसी ऐसे ठिकाने की तलाश में हैं, जो वैचारिक तौर पर करीबी भी हो।

हमें आप जैसे राष्ट्रवादी लोगों के सहयोग की जरुरत है, जो "राष्ट्र प्रथम" पत्रकारिता में अपना सहयोग देना चाहते हों. देश या विदेश, कहीं से भी सहायता राशि देने के लिए नीचे दिए बटन पर क्लिक करें.

App download

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुडी सभी ख़बरें सीधे अपने मोबाईल पर पाने के लिए Bharti News App डाउनलोड करें.

YouTube चैनल सब्स्क्राइब करें